Latest Vacancy

अगर बनना चाहते हैं RTO officer? जानें योग्यता, जिम्मेदारियां और वेतन

Govtvacancy Desk
19 Aug 2022 10:05 AM GMT
अगर बनना चाहते हैं RTO officer? जानें योग्यता, जिम्मेदारियां और वेतन
x
Career Guidance: बनना चाहते हैं RTO officer? जानें योग्यता, जिम्मेदारियां और वेतन

क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय एक सरकारी विभाग है जो वाहन पंजीकरण, ड्राइविंग लाइसेंस जारी करने, वाहन बीमा और परिवहन वाहनों के लिए फिटनेस प्रमाण पत्र से संबंधित है। इन सबके लिए एक आरटीओ अधिकारी (क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी) जिम्मेदार होता है। इसे भारत के सबसे प्रतिष्ठित सरकारी विभागों में से एक माना जाता है। कई उम्मीदवार आरटीओ अधिकारी बनने का सपना देखते हैं। आइए जानते हैं कि आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए, उनकी नौकरी क्या है, मासिक वेतन आदि।

कौन बन सकता है आरटीओ ऑफिसर?

सबसे पहले, किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या कॉलेज से किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री।

संबंधित पद पर डिप्लोमा कोर्स।

आरटीओ भर्ती के लिए सभी चरणों से गुजरना जरूरी है।

सहायक आरटीओ या मोटर वाहन निरीक्षक (एमवीआई) पद जैसे निचले स्तर के अधिकारियों को नौकरी मिलनी होगी।

कुछ वर्षों के लिए निम्न ग्रेड में काम करने के बाद अनुभव प्राप्त करने के बाद एक क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी यानी आरटीओ अधिकारी बन सकता है।

आयु सीमा

सामान्य श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए आयु सीमा 21 वर्ष से 30 वर्ष, ओबीसी वर्ग के लिए 21 वर्ष से 33 वर्ष और एससी या एसटी वर्ग के लिए 21 वर्ष से 37 वर्ष है।

आरटीओ अधिकारी भर्ती प्रक्रिया

आरटीओ अधिकारी भर्ती प्रक्रिया राज्य सेवा आयोग द्वारा की जाती है जिसमें मूल रूप से तीन चरण होते हैं। पहले चरण में लिखित परीक्षा, दूसरे चरण में फिटनेस टेस्ट या मेडिकल टेस्ट और तीसरे चरण में साक्षात्कार का दौर आयोजित किया जाता है।

आरटीओ अधिकारी की भूमिका और जिम्मेदारियां

नागरिकों को मोटर व्हीकल एक्ट का पालन कराने की जिम्मेदारी आरटीओ की होती है।

वाहन नंबर प्लेट के लिए आवेदन करने वाले लोगों को वाहन पंजीकरण संख्या प्रदान करना भी आरटीओ की जिम्मेदारी है।

आरटीओ ड्राइविंग टेस्ट आयोजित करने और इसके लिए आवेदन करने वालों को ड्राइविंग लाइसेंस जारी करने के लिए जिम्मेदार है।

सड़क पर वाहन चलाने के लिए जरूरी सभी दस्तावेज पास कराने की जिम्मेदारी आरटीओ की होती है।

सैलरी के अलावा ये बेनिफिट्स भी मिलते हैं।

आधिकारिक कार्य के लिए वाहन सुविधा उपलब्ध है।

कई राज्यों में आवास की सुविधा बहुत कम कीमत पर मिल सकती है।

आधिकारिक कार्यों में सहायता करता है।

निजी केबिन उपलब्ध।

कई प्रकार के प्रोत्साहन उपलब्ध हैं।

चिकित्सा सुविधा उपलब्ध है।

आरटीओ अधिकारी वेतन और लाभ

एक आरटीओ अधिकारी का औसत वेतन 30,000 रुपये से 60,000 रुपये प्रति माह के बीच होता है। हालांकि, अनुभव, कार्य प्रोफ़ाइल, क्षेत्र, प्रदर्शन आदि जैसे विभिन्न कारकों के आधार पर वेतन भिन्न हो सकता है। साथ ही, एक आरटीओ अधिकारी का वेतन अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग हो सकता है।

Next Story