Latest Vacancy

JBT के 1277 पदों पर भर्ती, फटाफट देखें भर्ती की डिटेल

Govtvacancy Desk
13 Aug 2022 2:08 AM GMT
JBT के 1277 पदों पर भर्ती, फटाफट देखें भर्ती की डिटेल
x
जेबीटी में 1277 नई भर्तियां, हाई कोर्ट के फैसले के अनुसार भर्ती नियम अपनाएगा शिक्षा विभाग

जेबीटी (JBT Bharti) की पिछली भर्ती की नियुक्तियां बेशक अभी नहीं हो पाई हैं, लेकिन शिक्षा विभाग (Education Department) अब नई भर्तियां करने जा रहा है। करीब 1277 पद नए भरे जा रहे हैं और इसके लिए भर्ती नियम हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के निर्णय के अनुसार अपनाए जाएंगे।

कांग्रेस विधायक आशा कुमारी के सवाल के जवाब में शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान यह जानकारी दी। शिक्षा मंत्री (Education Minister) ने कहा कि पिछले चार साल में एक भी पद जेबीटी (JBT Recruitment) का नहीं भरा जा सका है, क्योंकि मामला कोर्ट चला गया था। अब हाई कोर्ट के ताजा निर्देशों के अनुसार कमीशन भर्तियों का 617 पदों पर रिजल्ट (Result) अगले हफ्ते आ रहा है। इसके बाद बैचवाइज भर्ती के 470 पदों पर नियुक्तियां दी जाएंगी।

इसके साथ ही नई भर्तियों को लेकर भी प्रक्रिया शुरू हो गई है। चल रहे कोर्ट केस के बीच जेबीटी के 467 पदों को भरने का मामला हमीरपुर कर्मचारी चयन आयोग को भेजा गया था, लेकिन आयोग ने यह फाइल वापस लौटा दी थी और कहा था कि पहले कोर्ट केस को देखते हुए जेबीटी के भर्ती नियमों पर सरकार फैसला ले। 467 इन पदों और 810 नए पदों के साथ दोबारा से भर्ती का मामला आयोग भेजा जा रहा है।

इन भर्तियों के कारण रिक्तियों में कमी आएगी। वर्तमान में जेबीटी (JBT Post) में ही 4000 से ज्यादा पद खाली हैं और इन्हें भरने की कोशिश है। शिक्षा विभाग में शिक्षकों के 1927 पद और भरने का मामला वित्त विभाग को भेजा गया है। यहां से मंजूरी मिलने के बाद यह प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी।

आशा कुमारी के अनुपूरक सवाल के जवाब में शिक्षा मंत्री ने कहा कि अब जेबीटी की भर्तियों (JBT Bharti 2022-23) को लेकर हाई कोर्ट के निर्देश वाली प्रक्रिया भी अपनाई जाएगी, जिसमें जेबीटी के पदों पर बीएड को भी पात्रता दी गई है। यह पात्रता प्राइमरी के टेट वाले शिक्षकों (Primery Teacher) को ही मिलेगी।

हालांकि इस पूरे मामले में राजस्थान सरकार भी सुप्रीम कोर्ट गई हुई है और हिमाचल हाई कोर्ट में भी मामला चल रहा है। जैसा अंतिम निर्णय इस केस में आएगा, उसके बाद अगली प्रक्रिया अपनाएंगे। आशा कुमारी का तर्क था कि यदि बीएड को जेबीटी में प्राथमिकता देनी है, तब तो बैचवाइज भर्ती में जेबीटी का नंबर ही नहीं आएगा। हालांकि जेबीटी टेट की शर्त के कारण टीजीटी टेट वाले बीएड को फायदा नहीं मिल रहा है। (एचडीएम)

Next Story