Important News

NH52 पर सफर करने वाले दे ध्यान ,टोल टेक्स में हुई बढ़ोतरी जाने नए रेट

GovtvacancyJobs
26 Jun 2022 4:46 AM GMT
NH52 पर सफर करने वाले दे ध्यान ,टोल टेक्स में हुई बढ़ोतरी जाने नए रेट
x
राष्ट्रीय राजमार्ग 52 पर कोटा जिले के रामगंजमंडी के सलावदखुर्द के पास नया टोल प्लाजा शुरू हो गया है

राष्ट्रीय राजमार्ग 52 पर कुटा जिले के रामगंजमंडी के सालावदखुर्द के पास एक नया टोल यार्ड शुरू हो गया है। इस टोल यार्ड पर हल्के वाहनों के लिए 110 रुपये का कर निर्धारित है। टोल के कारण झालावाड़, झालरापाटन, अकलेरा और मध्य प्रदेश से आना-जाना महंगा हो गया है।

पहले झालावाड़ से कोटा तक एक जगह शुल्क देना पड़ता था, अब दो जगह शुल्क वसूलना पड़ता था। हालांकि एनएच का यह काम अभी पूरा नहीं हुआ है। कुछ जगहों पर काम चल रहा है, जिसे पूरा होने में दो-तीन महीने लग सकते हैं।

इस हाईवे पर परिवहन शुरू होने के बाद से जयपुर से जबलपुर जाने वाले यात्रियों को लाभ मिलना शुरू हो गया है। नतीजा यह होता है कि सामान्य गति से गाड़ी चलाने पर भी कुटा से जलवाड़ का सफर सवा घंटे में पूरा हो जाता है। यानी 20 से 25 मिनट का समय बचता है। हालांकि सुगम उड़ान के लिए कुटा से जलवाड़ की यात्रा करने के लिए दो जगहों पर शुल्क देना पड़ता है। इससे यात्रा महंगी हो गई।

कूटा से मध्य प्रदेश सीमा तक तीन ट्रांजिट फीस

NH 52 पर, वह कोटा से झालावाड़ जाता है और अकलेरा के पीछे मध्य प्रदेश की ओर जाता है। अब कूटा से मध्य प्रदेश सीमा तक इस हाईवे पर तीन जगहों पर टोल देना होगा. कूटा से निकलते समय मंदाना, फिर सालावदखोद और अकलेरा में फीस देनी होगी।

यह गणित का परिणाम है

मंदाना टोल: कार के एक तरफ 55 रुपये और 24 घंटे के भीतर लौटने पर 85 रुपये का भुगतान करना होगा।

सालावदखुर्द के पास शुल्क: वाहन के एक तरफ 110 रुपये और 24 घंटे में लौटने पर 165 रुपये।

- एक्लेरा के पास शुल्क: हल्के वाहनों के लिए 55 रुपये एक तरफ और 80 रुपये प्रति घंटा राउंड ट्रिप।

दारा नालो में सुरक्षित यात्रा की तैयारी

NH 52 डार में मुकुंदरा टाइगर नेशनल पार्क की सीमा से लगभग 7 किमी की दूरी से गुजरता है। हालांकि यह हाईवे फ्रंट रोड है, लेकिन टाइगर रिजर्व की वजह से दारा की नाल से सात किलोमीटर दूर बना पूर्व ही रहेगा। रेलवे लाइन के कटाव से संभावित हादसों को देखते हुए सुरक्षित यात्रा के लिए रेलिंग रेलिंग और बोका वॉल का निर्माण किया जा रहा है। इसके अलावा, सड़क सुरक्षा के संकेत हर जगह लगाए गए हैं।

Next Story