Important News

आधुनिक सेंसर का उपयोग करके चोरी से बचने के लिए स्मार्ट ई-साइकिल का आविष्कार किया

GovtvacancyJobs
19 April 2022 11:40 PM GMT
आधुनिक सेंसर का उपयोग करके चोरी से बचने के लिए स्मार्ट ई-साइकिल का आविष्कार किया
x

असम राइफल्स आईटीआई (Assam Rifles ITI) में प्रौद्योगिकी के एक छात्र ने आधुनिक सेंसर (modern sensors) का उपयोग करके और उसमें लॉकेशन ट्रैकिंग सिस्टम ( location tracking systems ) लगाकर एक 'थेफ्ट प्रूफ' इलेक्ट्रॉनिक साइकिल (ई-बाइक) विकसित की है.

असम के करीमगंज जिले के सम्राट नाथ (Samrat Nath) ने इस ई-बाइक को विकसित किया है. यह साइकिल इस्तेमाल किए गए लैपटॉप से ​​पुनर्नवीनीकरण लिथियम-आयन बैटरी (Lithium-ion batteries) द्वारा संचालित होती है. बार चार्ज करने पर यह 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के साथ 60 किमी तक चल सकती है.

सम्राट नाथ ने कहा, "मैंने चोरी से बचने के लिए स्मार्ट ई-बाइक का आविष्कार किया है. इसकी कई विशेषताएं हैं, अगर कोई मेरी बाइक चोरी करने की कोशिश करता है तो मेरे स्मार्टफोन पर तुरंत एक मैसेज आएगा और बाइक में लगा अलार्म बजना शुरू हो जाएगा."

उन्होंने कहा, मैं ऐप का उपयोग करके दुनिया के किसी भी कोने से इस बाइक को नियंत्रित कर सकता हूं. मैंने इस बाइक में एक और डिवाइस लगाया है जिसे किसी भी अन्य इलेक्ट्रिक बाइक (electric bike) में लगाया जा सकता है. हम इसे दुनिया के हर कोने से नियंत्रित कर सकते हैं और इसकी लाइव लोकेशन को भी ट्रैक कर सकते हैं. यह पूरी तरह सुरक्षित है.

उन्होंने अपनी बाइक में अतिरिक्त सुरक्षा जोड़ने के लिए एक फिंगरप्रिंट फीचर भी लगाया है.

नाथ ने कहा कि खुद बाइक बनाने में चार साल लगे . उन्हें 2016 में ऐसी ई-बाइक विकसित करने का विचार आया था, उस समय वह आठवीं कक्षा में पढ़ रहे थे.

उन्होंने कहा, "ई-बाइक बनाना मेरा बचपन का सपना था. मेरा सपना सच हो गया और मैं कोडिंग सीखने के बाद इसे चार साल में पूरा कर सका।"

बता दें कि सम्राट नाथ ने रामकृष्ण नगर विद्यापीठ से उच्च माध्यमिक शिक्षा प्राप्त की और फिर असम राइफल्स आईटीआई में प्रौद्योगिकी का अध्ययन करने के लिए सिलचर आ गए.

Next Story