Important News

चेक लेनदेन को लेकर pnb ने नियमो में किया बदलाव ,जरुर पढ़े कही आप ना हो धोखधड़ी के शिकार

GovtvacancyJobs
18 Jun 2022 3:12 PM GMT
चेक लेनदेन को लेकर pnb ने नियमो में किया बदलाव ,जरुर पढ़े कही आप ना हो धोखधड़ी के शिकार
x
पीएनबी ने सख्त किए नियम, अब चेक के क्लियरेंस से पहले करना होगा ये काम

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में आपका खाता है, यह खबर आपके लिए बहुत मददगार है। देश के दूसरे सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के पीएनबी ने उच्च मूल्य के चेक में धोखाधड़ी को रोकने के लिए एक बड़ा कदम उठाया है। पीएनबी के अनुसार, बैंक के ग्राहकों को अब सकारात्मक भुगतान योजना (पीपीएस) के तहत 10,000 रुपये या उससे अधिक के चेक के मामले में निकासी से एक दिन पहले सभी विवरण प्रदान करने होंगे। इससे सत्यापन प्रक्रिया आसान हो जाएगी और चेक वापस करने जैसा कोई मामला नहीं होगा। पीएनबी ने कहा कि सभी शाखाओं, इंटरनेट बैंकिंग और एसएमएस बैंकिंग के लिए पीपीएस सक्रिय कर दिया गया है।

यह नियम 4 अप्रैल को लागू किया गया था

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने 4 अप्रैल 2022 को 10,000 रुपये और उससे अधिक के चेक के लिए पीपीएस सुविधा लागू की है। बैंक ने कहा कि अगर कोई ग्राहक बैंक शाखा या डिजिटल चैनल के माध्यम से 10,000 रुपये या उससे अधिक का चेक जारी करता है, तो पीपीएस पुष्टिकरण अनिवार्य होगा। अब ग्राहकों को अकाउंट नंबर, चेक नंबर, अल्फा चेक, चेक की तारीख, चेक की रकम और पाने वाले का नाम देना होगा।

धोखाधड़ी की रोकथाम के उपाय

अगर आप पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के ग्राहक हैं तो आपके लिए एक बेहद जरूरी खबर है। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के ग्राहकों को अधिक राशि वाले चेक क्लियर करने के लिए एक दिन पहले जानकारी देनी होगी। ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचाने के लिए बैंक ने यह कदम उठाया है। बता दें कि नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) ने इस संबंध में एक पॉजिटिव पेमेंट सिस्टम (पीपीएस) तैयार किया है। इसके द्वारा, जिन ग्राहकों ने उच्च मूल्य का चेक जारी किया है, उन्हें चेक नंबर, चेक राशि, तिथि और प्राप्तकर्ता का नाम दोबारा जांचना आवश्यक है।

एक सकारात्मक भुगतान प्रणाली क्या है?

धोखाधड़ी का पता लगाने के लिए सकारात्मक भुगतान प्रणाली (पीपीएस) का उपयोग किया जाता है। जब कोई व्यक्ति सीसीएस प्रणाली के माध्यम से चेक जारी करता है, तो उसे अपने बैंक को पूरी जानकारी देनी होगी। इसमें चेक जारी करने वाले को एसएमएस, इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम या मोबाइल बैंकिंग के जरिए चेक की तारीख, पाने वाले का नाम, अकाउंट नंबर, कुल रकम और अन्य जरूरी जानकारियां बैंक को इलेक्ट्रॉनिक तरीके से देनी होंगी. इस प्रणाली में कम समय लगेगा और भुगतान चेक से सुरक्षित होगा।

Next Story