Important News

अब गेंहू बेचना किसान के हाथ में , सरकार ने दी ये विशेष सुविधा

GovtvacancyJobs
2 April 2022 9:57 AM GMT
अब गेंहू बेचना किसान के हाथ में , सरकार ने दी ये विशेष सुविधा
x
Now selling wheat is in the hands of the farmer, the government has given this special facility

हरियाणा सरकार द्वारा गेहूं की सरकारी खरीद 1 अप्रैल से शुरू कर दी गई है . कुरुक्षेत्र में जिले भर की 23 अनाज मंडियों और खरीद केंद्रों पर शुक्रवार से गेहूं की सरकारी खरीद शुरू हो गई है. इस बार किसान अपनी फसल को अनाज मंडी में लाने का समय खुद तय कर सकता है.

ऐसे करे समय तय

इसके लिए किसान को अपना समय ई-प्रोक्योरमेंट सॉफ्टवेयर में अपडेट करना होगा. इस सॉफ्टवेयर में समय का चयन करने पर अधिकारियों के लिए अनाज मंडियों में व्यवस्था करना आसान हो जाएगा. जिले भर में एक लाख 12 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में गेहूं की फसल खड़ी है.

गौरतलब है कि पिछले साल जिले भर में 22 अनाज मंडियों और खरीद केंद्रों ने गेहूं की खरीद का काम किया था. इन केंद्रों पर करीब 83870 किसान अपनी फसल लेकर पहुंचे थे.इन किसानों से 15 मई तक कुल 608548 मीट्रिक टन गेहूँ उपार्जन किया गया था.इस बार बहुत अधिक गेहूँ उपार्जन केंद्रों तक पहुँचने की संभावना है.

बता दें कि अभी गेहूं की फसल में नमी है. ऐसे में पहले सप्ताह में कुछ ही अनाज बाजारों में पहुंचने की उम्मीद है.मौसम बदलने पर गेहूं की फसल एक साथ पकती है. किसान भी फसल को एक साथ काट कर मंडियों में ले जाता है.इससे अनाज मंडियां फसल में फंस जाती हैं और सड़कों पर गेहूं के ढेर लग जाते हैं. इस समस्या से बचने के लिए अधिकारी किसानों को तय समय के अनुसार गेहूं लेकर अनाज मंडियों में पहुंचने का मौका दे रहे हैं.

किसानों को अपनी कटाई का समय खुद तय करने के लिए ई-प्रोक्योरमेंट सॉफ्टवेयर में व्यवस्था की गई है.किसान ekharid.haryana.gov.in में निर्धारित शेड्यूल लिंक पर जाकर खुद समय का चयन कर सकते हैं. एक बार समय चुन लेने के बाद किसान अपनी फसल को नियत समय पर बाजार ले जा सकता है. इससे किसान को गेट पास बनवाने सहित अन्य किसी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा.

किसानों की सुविधा के लिए की गई व्यवस्था

उपायुक्त मुकुल कुमार ने बताया कि किसानों की सुविधा के लिए यह फैसला लिया गया है. इससे किसानों को अनाज मंडियों में किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा. यानी कि इस पर किसानों के लिए बढ़िया व्यवस्था की गई है ताकि किसानों को किसी भी तरह की समस्या ना हो.

Next Story