Important News

हरियाणा में अगले दो दिनों में इन हिस्सो में एक्टिव होगा पहला पश्चिमी विक्षोभ, बादलवाई और बूंदाबांदी के आसार

Govtvacancy Desk
12 April 2022 2:29 AM GMT
हरियाणा में अगले दो दिनों में इन हिस्सो में एक्टिव होगा पहला पश्चिमी विक्षोभ, बादलवाई और बूंदाबांदी के आसार
x
मौसम विज्ञानियों ने 13-14 अप्रैल को उत्तरी हरियाणा में पश्चिमी विक्षोभ के चलते बादलवाई और बूंदाबांदी होने के आसार जताए हैं। मार्च के बाद इस सीजन में यह पहली बार हुआ है जब पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है। वरना इतने दिनों से पांच से अधिक पश्चिमी विक्षोभ प्रदेश के ऊपर से गुजर गए मगर सक्रिय नहीं हुए।

hisar-common-man-issuesnewsstateWeather rain update Weather Effect Weather Crop Effect Wheat Crop Disease Haryana Weather Hisar News मौसम प्रभाव मौसम फसल प्रभाव हरियाणा मौसम हिसार न्‍यूजNewsNational NewsHaryana news hindi news


मौसम विज्ञानियों ने 13-14 अप्रैल को उत्तरी हरियाणा में पश्चिमी विक्षोभ के चलते बादलवाई और बूंदाबांदी होने के आसार जताए हैं। मार्च के बाद इस सीजन में यह पहली बार हुआ है जब पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है। वरना इतने दिनों से पांच से अधिक पश्चिमी विक्षोभ प्रदेश के ऊपर से गुजर गए मगर सक्रिय नहीं हुए। नतीजा यह हुआ कि तापमान लगातार बढ़ता चला गया। सिर्फ फरीदाबाद और हिसार ही नहीं बल्कि गुरुग्राम में 44.7 डिग्री सेल्सियस, सिरसा में 43.7 डिग्री सेल्सियस तापमान लोगों को झेलना पड़ा।


प्रदेश में अप्रैल में ही मई-जून जैसी गर्मी पड़ रही है। सोमवार को फरीदाबाद में दिन का तापमान सामान्य से 9 डिग्री बढ़कर 45.3 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। सिर्फ फरीदाबाद ही नहीं बल्कि हिसार में 44.2 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा। जोकि सामान्य से सात डिग्री सेल्सियस अधिक है। प्रदेश में उत्तरी हरियाणा, दक्षिण व दक्षिण पूर्वी हरियाणा में भीषण उष्ण लहर चल रही है। इसके कारण लोगाें का बुरा हाल है। दोपहर के समय भीषण उष्ण लहर के कारण लोगों की त्वचा दिन के समय जलती नजर आई। लोगों का दिन के समय घर से निकलना भी काफी कठिन रहा।


आज से लोगों को गर्मी से मिल सकती है हल्की राहत

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डा. मदन खिचड़ ने बताया कि मंगलवार से हल्की राहत मिलने की संभावना बन रही है। 12 अप्रैल से हवाओं में बदलाव देखने को मिल सकता है। हवा पश्चिमी से पूर्वी होने की संभावना है। इसके साथ ही एक पश्चिमी विक्षोभ के आंशिक प्रभाव से राज्य में 13 व 14 अप्रैल को आंशिक बादलवाई व 13 अप्रैल देर रात्रि को उत्तरी हरियाणा में कुछ एक स्थानों पर गरज चमक के साथ छिटपुट बूंदाबांदी होने की भी संभावना बन रही है।


जिससे राज्य में 12 अप्रैल से 14 अप्रैल के दौरान दिन के तापमान में हल्की गिरावट आने मगर रात्रि तापमान में हल्की बढ़ोतरी होने की संभावना है। इस के बाद 15 अप्रैल से राज्य में फिर से मौसम गर्म व खुश्क संभावित है।इतनी अधिक गर्मी पड़ने का मुख्य कारण मैदानी क्षेत्रों में कोई मौसमी सिस्टम का प्रभाव न होना तथा राजस्थान के ऊपर पाकिस्तान में एक एंटीसाइक्लोनिक सर्कुलेशन बनने से खुश्क व गर्म पश्चिमी हवाओं का चलना है।


कृषि पर मौसम का प्रभाव

कृषि विज्ञानियों के अनुसार इस बार मार्च 15 से ही अधिकतम तापमान अधिक हो गई। इसके कारण से अगेती के साथ गेहूं की पछेती फसल भी समय से पहले ही पककर तैयार हो गई। अब किसान अगेती और पछेती दोनों फसलों की कटाई कर रहे हैं। इसके साथ ही सरसों की कटाई भी पहले ही किसानों ने शुरू कर दी थी। अब इसी प्रकार का मौसम रहा तो आने वाले समय में कपास व अन्य फसलों की बिजाई के समय फसल प्रभावित हो सकती है। इसके साथ ही सब्जियों की फसलों को इस मौसम में सिंचाई की आवश्यकता है।

Next Story