Important News

ताइवानी तरबूज के साथ किसान की सफलता की कहानी

GovtvacancyJobs
4 April 2022 1:40 AM GMT
ताइवानी तरबूज के साथ किसान की सफलता की कहानी
x
Farmer's success story with Taiwanese watermelon

गर्मी के मौसम में तरबूज की मांग बढ़ जाती है, इसको देखते हुए ग्राम गंगाखेड़ी तहसील पेटलावद जिला झाबुआ के प्रगतिशील कृषक श्री यश पिता परमानन्द खेर ने दिसंबर में ही ताइवानी तरबूज की बिजाई कर क्रॉप कवर से ढंक दिया।

इससे फसल सुरक्षित हो गई, लागत खर्च कम हुआ और उत्पादन भी अच्छा मिला। ताइवानी तरबूज की खेती से उनकी खूब तरक्की हो रही है।

श्री यश खेर ने कृषक जगत को बताया कि उन्होंने 5 बीघे में ताइवानी तरबूज की एक लोकप्रिय किस्म की 25 दिसंबर को बिजाई की थी और उसे 17 जीएसएम वाले क्रॉप कवर से गुफानुमा बनाकर ढंक दिया था। इससे कीटों से तो बचाव हुआ ही ,फंगस भी नहीं लगा।


तापमान भी नियंत्रित रहा। इस कारण लागत खर्च भी कम हो गया। एक बीघे में 150 क्विंटल का उत्पादन मिला। यह क्षेत्र के पहले ऐसे किसान रहे, जिनके यहां सबसे पहले उत्पादन हुआ और दाम भी साढ़े तरह रुपए प्रति किलो का मिला। जिसे रतलाम के एक व्यापारी ने खरीदा।

इस ताइवानी तरबूज की विशेषताएं बताते हुए श्री खेर ने कहा कि यह तरबूज हरे रंग का है ,जिसमें मिठास भी ज़्यादा है।बीज भी कम निकलते हैं। तरबूज छोटे -बड़े सभी आकार के हैं,जो डेढ़ किलो से लेकर 6 किलो तक के निकले हैं। तरबूज का औसत वजन 3 -4 किलो मिला है।इस किस्म को वे विगत तीन सालों से लगा रहे हैं। इस ताइवानी तरबूज से उन्हें अच्छी आय हो रही है और तरक्की के द्वार खुल गए हैं।

Next Story