Haryana Jobs

अब गाड़ी ड्राइव करते हुए नींद आने से नहीं होगा रोड एक्सीडेंट का खतरा, एमडीयू रोहतक के स्टूडेंट ने तैयार किया खास चश्मा

Govt mobile
17 Sep 2022 6:56 AM GMT
अब गाड़ी ड्राइव करते हुए नींद आने से नहीं होगा रोड एक्सीडेंट का खतरा, एमडीयू रोहतक के स्टूडेंट ने तैयार किया खास चश्मा
x
नींद आने पर ड्राइवर को जगाएगा यह खास चश्मा, MDU रोहतक के स्टूडेंट्स ने किया है तैयार

अब सड़क पर वाहन चलाते समय नींद की झपकी आने से होने वाले हादसों पर अंकुश लगाया जा सकेगा. अब चालक को नींद की झपकी नहीं आएगी और न ही इससे होने वाले सड़क हादसे होंगे. इसके लिए हरियाणा की महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय, रोहतक (MDU) यूआईईटी के इलेक्ट्रिकल विभाग के स्टूडेंट्स ने एक खास चश्मा तैयार किया है. इसमें लगा एंटी स्लीपिंग ग्लास नींद की झपकी आने पर वाहन चालक को अलर्ट कर देगा.

यह चश्मा चालक की पलक झपकते ही Vibrate करने के साथ साउंड सिग्नल देगा. इस प्रोजेक्ट को यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (यूआईईटी) की ओर से मनाए जाने वाले इंजिनियरिंग डे पर प्रदर्शित किया जाएगा. एंटी स्लीपिंग ग्लास तैयार करने वाले बीटेक फोर्थ ईयर के स्टूडेंट्स साक्षी व हिमांशु ने बताया कि हर साल सड़क हादसों में हजारों लोग अपनी जिंदगी से हाथ धोते हैं और इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए ही उनके दिमाग में यह आइडिया आया था.

इस तकनीक का किया गया है इस्तेमाल

हिमांशु व साक्षी ने बताया कि नींद आने की वजह से होने वाले हादसों को कम कैसे किया जाए, इसी सोच के साथ आगे बढ़ते हुए चश्मा बनाना बेहतर विकल्प समझा. यह चश्मा चालक को नींद की झपकी के साथ हादसे की संभावना से भी सुरक्षित करेगा. इसके लिए चश्मे में आर्ड्रिनो (माइक्रो प्रोसेसर), आईआर सेंसर व कंप्यूटर प्रोग्रामिंग का इस्तेमाल किया गया है. चश्मे के साथ ही महीन तारों के साथ नैनो तकनीक का भी इस्तेमाल किया गया है.

ऐसे करता है काम

यह चश्मा पहनने के बाद चालक नींद की झपकी से निश्चित हो जाएगा. इस फिट प्रोग्रामिंग के तहत दो पल के लिए जैसे ही पलकें झुकती है तो चश्मा वाइब्रेट करने के साथ आवाज भी करेगा. इसके लिए आईआर सेंसर लगाया गया है. यह सेंसर आंखों की हरकत को पढ़ता हैं और पलकों को झपकने पर फोकस रखता है. चश्मे का सेंसर आर्ड्रिनो को सिग्नल भेजता है.

आर्ड्रिनो पलकें झपकाने का निर्धारित समय जांच कर मैसेज बजर व वाइब्रेटर को देगा और इससे चालक सचेत हो जाएगा तथा हादसे से बचा जा सकेगा. इस चश्मे को मोबाइल से भी जोड़ा जा सकता है. इससे चालक के अलावा वाहन में सवार दूसरा व्यक्ति भी चालक की झपकी पर नजर रख सकेगा और मोबाइल पर मैसेज मिलते ही दूसरा व्यक्ति चालक को समय रहते सचेत कर सकेगा.

Next Story