home page

सरकार आपकी बेटी के खाते में जमा करेगी 41 लाख रुपये, जानिए क्या है योजना और कैसे भरें फार्म

 | 
सरकार आपकी बेटी के खाते में जमा करेगी 41 लाख रुपये, जानिए क्या है योजना और कैसे भरें फार्म

Sukanya Samriddhi Yojna-: छोटी बचत योजनाएं हर निवेशक के लिए एक बड़ा आकर्षण हैं। सरकार द्वारा इन दिनों कई छोटी बचत योजनाएं चलाई जा रही हैं, जो आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकती हैं। इनमें थोड़ा पैसा लगाकर बड़ा मुनाफा कमाया जा सकता है। अगर आपके पास एकमुश्त पैसा नहीं है, तो आप भविष्य के लिए एक अच्छा फंड बनाने के लिए थोड़ा-थोड़ा करके निवेश कर सकते हैं।

ऐसी ही एक योजना है सुकन्या समृद्धि योजना (SSY)। यह योजना देश की बेटियों के भविष्य को तैयार करने के लिए तैयार की गई है। अगर आप भी अपनी बेटी की शादी या उसकी अच्छी शिक्षा के लिए निवेश करना चाहते हैं तो सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश एक अच्छा विकल्प है।

आप सिर्फ 250 रुपये से निवेश शुरू कर सकते हैं

इस योजना के तहत 10 साल या उससे कम उम्र की बालिका के अभिभावक या माता-पिता खाता खुलवा सकते हैं। निवेश की लागत भी बहुत कम है। सिर्फ 250 रुपये से निवेश शुरू किया जा सकता है। इस योजना के तहत अधिकतम 1.50 लाख रुपये जमा किए जा सकते हैं।

कितना ब्याज मिलता है?

इस योजना में ब्याज भी अन्य योजनाओं की तुलना में बेहतर है। फिलहाल इस योजना पर 7.6 फीसदी सालाना की दर से ब्याज मिल रहा है। अगर अधिकतम निवेश सीमा 1.50 लाख रुपये पर आधारित है तो आपको इस योजना में मासिक 12500 रुपये देने होंगे।

अगर ब्याज दर समान रहती है तो 14 साल तक लगातार निवेश करने पर आपका कुल मूलधन 22.50 लाख रुपये हो जाता है। मैच्योरिटी पर आपको 63.65 लाख रुपये मिल सकते हैं। इस तरह आपको 41.15 लाख रुपये का फायदा हुआ। यह योजना कर छूट में भी लाभ प्रदान करती है।

परिपक्वता अवधि क्या है?

वैसे तो इस योजना की मैच्योरिटी अवधि 21 साल है, लेकिन पैसा 14 साल के लिए ही जमा करना होता है। शेष वर्ष के लिए ब्याज अर्जित करना जारी है। आप इस योजना में जितना निवेश करेंगे, आपको मैच्योरिटी पर लगभग 3 गुना रिटर्न मिलेगा। इस योजना के माध्यम से मौजूदा ब्याज दरों पर अधिकतम 63.50 लाख रुपये जुटाए जा सकते हैं।

इन बातों का रखें ध्यान

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) में हर महीने की 5 तारीख और आखिरी दिन के बीच उपलब्ध न्यूनतम शेष राशि पर ही ब्याज का भुगतान किया जाता है। इसका मतलब यह है कि अगर आप महीने की 5 तारीख से पहले या 5 तारीख को इसमें निवेश नहीं करते हैं, तो आपको उस महीने का ब्याज नहीं मिलेगा। आपको बता दें कि योजना में ब्याज की गणना मासिक आधार पर की जाती है, लेकिन पूरा ब्याज वित्तीय वर्ष के अंतिम दिन 31 मार्च को जमा कर दिया जाता है।