home page

PM Kisan: किसानों को जल्द निपटा लेने चाहिए ये दो काम, पैसा चाहिए तो जरूर पढ़ें खबर

 | 
y

पीएम किसान योजना अपडेट: हमारे देश में बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक ऐसी योजनाएं हैं, जिससे हर जरूरतमंद को लाभ मिल सके। हर साल सरकारें इन योजनाओं में काफी पैसा खर्च करती हैं, ताकि शहरों और दूर-दराज के गांवों में रहने वाले लोगों को योजनाओं का लाभ मिल सके। इस संबंध में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। इस योजना का पूरा खर्च केंद्र सरकार वहन करती है। योजना के पात्र लाभार्थियों को 6,000 रुपये सालाना भुगतान करने का प्रावधान है, और यह पैसा हर चार महीने में 2,000 रुपये की तीन किस्तों में सीधे किसानों के बैंक खातों में भेजा जाता है। योजना के तहत अब तक किसानों को 12 किस्तों की राशि मिल चुकी है। वहीं, अब 13वीं किस्त भी जल्द आ सकती है। लेकिन इन सबके बीच किसानों को दो काम करना जरूरी है, क्योंकि ऐसा नहीं करने पर उन्हें मिलने वाली किश्त फंस सकती है। तो आइए जानते हैं कि ये क्या हैं और कितने महत्वपूर्ण हैं। आगे की स्लाइड्स में आप इसके बारे में जान सकते हैं...

यह पहला कार्य है

अगर आप पीएम किसान योजना से जुड़े हैं और इसका लाभ लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको दो काम करने होंगे। पहला कार्य भू-सत्यापन है। यह सरकार द्वारा प्रत्येक लाभार्थी के लिए किया जा रहा है।
दरअसल, लोग फर्जी तरीके से योजना का लाभ नहीं उठा पाए। इसके लिए सरकार द्वारा यह व्यवस्था शुरू की गई थी। ऐसे में अगर आपने जमीन का सत्यापन नहीं कराया तो आपकी किस्त का पैसा फंस सकता है। तो इसे तुरंत करवाएं।

 govt vacancy            

       राजस्थान में किसानों को मिलेंगे 2 लाख रुपये, जानें योजना और पात्रता, यहां आवेदन करने पर नहीं लगेगा चार्ज

 


 

दूसरा काम

दूसरे काम की बात करें तो ये है e-KYC. अगर आप चाहते हैं कि आपकी किस्त का पैसा अटके नहीं तो आप योजना के आधिकारिक पोर्टल पर जाकर ओटीपी आधारित ई-केवाईसी करवा सकते हैं। इसके अलावा आप अपने नजदीकी सीएससी केंद्र से भी ई-केवाईसी करवा सकते हैं।
ई-केवाईसी पोर्टल से निम्नानुसार किया जा सकता है:-

सबसे पहले पीएम किसान योजना के आधिकारिक पोर्टल pmkisan.gov.in पर जाएं
इसके बाद 'ई-केवाईसी' के विकल्प पर क्लिक करें।
फिर आधार कार्ड नंबर और कैप्चा कोड डालकर सर्च पर क्लिक करें
अब मोबाइल नंबर पर प्राप्त ओटीपी दर्ज करें। इसके बाद आपका ई-केवाईसी हो जाएगा।