Education News

IAS Interview सवाल- Speed Breaker को हिंदी में क्या कहते हैं, जवाब सुनकर चकरा जाएगा दिमाग

Govtvacancy Desk
21 July 2022 3:28 AM GMT
IAS Interview सवाल- Speed Breaker को हिंदी में क्या कहते हैं, जवाब सुनकर चकरा जाएगा दिमाग
x
सड़क किनारे लगे साइन बोर्ड को देख चकराया IAS का दिमाग, लोगों से पूछा- Speed Breaker को हिंदी में क्या कहते हैं?

अंग्रेजी के कई शब्दों को हिन्दी भाषा में बोला जाता है. हिन्दी इतनी आसान और सहज भाषा है कि वो दूसरी भाषाओं के शब्दों को उसी तरह अपना लेती है जैसे उन्हें वहां कहा जाता है. लेकिन फिर भी बहुत से लोगों में अंग्रेजी भाषा के शब्दों को जबरदस्ती हिन्दी में अनुवाद (Hindi Translation) करने की होड़ लगी रहती है.

आप सोच रहे होंगे कि आखिर हम ऐसी बात कर ही क्यों रहे हैं, वो इसलिए क्योंकि एक आईएएस अधिकारी (IAS Officer) ने सड़क किनारे लगे एक साइन बोर्ड (Sign Board) की तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की है, जो अपने हिंदी अनुवाद की वजह से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है.

दरअसल, आईएएस अधिकारी अवनीश शरण (IAS Awanish Sharan) ने सड़क किनारे एक साइन बोर्ड लगा देखा, जिसे देखकर उनका दिमाग चकरा गया, क्योंकि उस बोर्ड पर शुद्ध हिंदी में ऐसा शब्द लिखा था, जो पढ़ने में काफी अजीब लग रहा था. इस बोर्ड पर 'स्पीड ब्रेकर' (Speed breaker) का हिन्दी अनुवाद कर सड़क पर लगा दिया, जिसे देखकर खुद आईएएस अधिकारी भी हैरान रह गए.

IAS अवनीश शरण ने हाल ही में एक फोटो अपने ट्विटर पर शेयर की है जिसमें स्पीड ब्रेकर आने से पहले रोड के किनारे एक बोर्ड लगा दिख रहा है. आमतौर पर ऐसे बोर्ड स्पीड ब्रेकर के पास या उससे कुछ कदम दूर लगे होते हैं, जो गाड़ियों के चालकों को सूचित करते हैं कि आगे ब्रेकर है और उन्हें कार धीमी कर लेनी चाहिए. हैरानी बोर्ड को लेकर नहीं है, बल्कि उसपर लिखी हिन्दी को लेकर है.

फोटो पर लिखा है- गड़गड़ाहट पट्टी! इसके साथ ही ब्रेकर का साइन बना है और नीचे बीडीए यानी ब्लॉक डेवलपमेंट अथॉरिटी लिखा है. आईएएस ने इस फोटो के साथ कैप्शन में लिखा- क्या यह 'स्पीड ब्रेकर' का सही अनुवाद है ? बस फिर क्या था, फोटो शेयर करते ही लोगों ने अपने मजेदार रिएक्शन देने शुर कर दिए.

लोगों ने कहा कि ये स्पीड ब्रेकर के लिए नहीं बल्कि रंबल स्ट्रिप्स के लिए लिखा होगा क्योंकि स्पीड ब्रेकर को गति अवरोधक कहते हैं. एक शख्स ने लिखा- सर गलती से भी अगर ये अनुवाद UPSC CSE के परीक्षक ने पढ़ लिया तो पता नहीं कितने अभ्यर्थियों का भविष्य गड़बड़ा जाएगा.

Next Story